सभी दोस्तों को स्वतन्त्रता दिवस की बहुत बहुत शुभकामनाएं! अभी कुछ दिनों में 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस आने वाला है। गणतंत्र दिवस हमेशा से ही 26 जनवरी को मनाया जाता हैं। 

इस साल 2020 में भारत अपना 71वां गणतंत्र दिवस मनाने वाला है। और इस 71वें गणतंत्र दिवस पर मैं आपके साथ गणतंत्र दिवस के कुछ देशभक्ति नारे शेयर कर रहा हूँ। 

Indian 10 most deshbhakti naare

जो स्वतंत्रता दिवस के लिए बहुत महत्ववपूर्ण है। और जिन्हें बोल कर आपके अंदर देशभक्ति का एक जोश आ जायेगा।इन्हें देने वाले हमारे देश के महान स्वतन्त्रता सेनानियों में से थे। 

जिन्होंने अपनी ज़िंदगी हमारे लिए आज़ादी की सांस लेने के लिए समर्पित कर दी। अगर आज हम आज़ाद है तो इसका सबसे बड़ा श्रेय इन्ही महान स्वतन्त्रता सेनानियों को जाता है। 

■ 26 जनवरी को Republic Day क्यों मनाते है Republic Day Kyu Manate Hai

हमारे स्वतंत्रता सेनानि महात्मा गाँधी, सुभाष चन्द्र बोस, बंकिम चन्द्र चटर्जी, जवाहर लाल नेहरू, भगत सिंह, लाल बहादुर शास्त्री, मुहम्मद इक़बाल, बाल गंगाधर तिलक, लाला लाजपत राय के द्वारा बोले गए ये नारे आज भी हमारे अंदर एक नया जोश भर देते है।

भारतीय स्वतंत्रता सेनानियों के दिये गए प्रेरणादायक देशभक्ति नारे


भारतीय स्वतंत्रता सेनानियों के द्वारा दिये गए ये देशभक्ति नारे इस गणतंत्र दिवस को आपके लिए बहुत ही यादगार बना देंगे। आइये जानते है इन महान स्वतंत्रता सेनानियों के नारे।

1. जय हिंद

जय हिन्द ( jai hind) भारत का सबसे बड़ा नारा हैं। इस देशभक्ति नारे को भारत के प्रति भाषणों और संवादों में देशभक्ति प्रकट करने के लिए बोला जाता है। जय हिन्द का नारा हमारे महान स्वतन्त्रता सेनानी सुभाष चन्द्र बोस ने दिया था।

इसका अर्थ "भारत की विजय" होता है। हमारे देश की आज़ादी के लिए लड़ने वाली आज़ाद हिन्द फौज को सुभाष चंद्र बोस ने ही बनाया था। सुभाष चंद्र बोस का जन्म 23 जनवरी 1897 में कटक में हुआ था।

2. जय जवान जय किसान

जय जवान जय किसान का नारा 1965 में भारत के दूसरे प्रधानमंत्री श्री लाल बहादुर शास्त्री ने पाक युद्ध के दौरान दिया था। शास्त्री जी का जन्म 2 अक्टूबर 1904 को मुगलसराय में हुआ था।

भारत का ये देशभक्ति नारा भारत के जवान और किसान के श्रम को दर्शाता है। इस नारे को देश को एकजुट करने के लिए 1965 में युद्ध के दौरान बोला गया था। Jai Jawan Jai Kisan नारे को भारत देश का रष्ट्रीय नारा भी कहा जाता है।

3. सत्यमेव जयते

सत्यमेव जयते नारा पण्डित मदन मोहन मालवीय ने दिया था। जिनका जन्म 25 दिसम्बर 1861 को इलाहाबाद में हुआ था।

मदन मोहन भारत के पहले और आखरी ऐसे महान पुरुष थे जिन्हें महामना की सम्मानजनक उपाधि दी गयी थी। इन्होंने ने ही वाराणसी के काशी विश्विद्यालय की स्थापना 1916 में की थी। 

और इन्होंने ही सत्यमेव जयते का नारा दिया था। जिसका मतलब "सत्य की सदैव ही जीत होती है" होता है। अर्थात सच की हमेशा जीत होती है।

4. वन्दे मातरम

ये नारा बंकिम चंद्र चट्टोपाध्याय ने दिया था। जिनका जन्म 27 जून 1883 को कंटलपाड़ा नामक गाँव मे हुआ था। बंकिम चंद्र को बांग्ला कवि, पत्रकार, लेखर और उपन्यासकार के रूप में जाना जाता हैं।

स्कूलों में राष्ट्रीय गीत के रूप में गाया जाने वाला हमारा राष्ट्रीय गीत वन्दे मातरम इन्होंने ही रचा (लिखा) था। हमारा राष्ट्रीय गीत बांग्ला और संस्कृत की मिश्रित भाषा मे लिखा गया है।

5. आराम हराम है

आराम हराम है का नारा भारत के सबसे पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू ने दिया था। जिनका जन्म 14 नवम्बर 1889 को इलाहाबाद में हुआ था।

इन्होंने युवाओ को कठिन परिश्रम के प्रति प्रेरित करने के लिए "आराम हराम है" का नारा दिया था। जिसे सुनकर आज भी युवाओ के अंदर एक नया जोश आ जाता है। 

ये नारा बहुत ही प्रेरणादायक नारा है जो हमारे काम की तरफ हमारी लगन बढ़ाता है। इस नारे का मतलब जब तक हम अपने काम मे सफल न हो जाये तब तक आराम नहीं करना है।

यह भी पढ़े
■ भारत के 15 सबसे प्रतिष्ठित और महत्वपूर्ण पुरस्कार 15 Most Awards in India

■ गणतंत्र दिवस की ये 10 बाते हर भारतीय को पता होनी चाहिए

■ गणतंत्र दिवस पर भाषण 2020 Republic Day Speech In Hindi 2020


At Last

दोस्तो इन सबके अलावा भारत के और भी महत्वपूर्ण और प्ररेणादायक नारे है जैसे
"करो या मरो - महात्मा गाँधी"
"पूर्ण स्वराज - पण्डित जवाहर लाल नेहरू"
"इंकलाब जिंदाबाद - भगत सिंह"
"स्वराज हमारा जन्म सिद्ध अधिकार है - बाल गंगाधर तिलक"
"सरफ़रोशी की तमन्ना अब हमारे दिल मे है - राम प्रसाद बिस्मिल"
"तुम मुझे खून दो मैं तुम्हे आज़ादी दूंगा - सुभाष चंद्र बोस"

स्वंतत्रता सेनानियों के नारे आज भी सभी की ज़ुबान पर रहते है। आपने "सारे जहाँ से अच्छा हिंदुस्तान हमारा" तो लगभग सभी बच्चों के मुहँ से सुना ही होगा। ये ग़ज़ल लगभग सभी भारतीयों की ज़ुबान पर होती है। और ये हमारी देश की शान में चार चांद लगाती है।

तो ये थे कुछ महत्त्वपूर्ण और प्रेरणादायक देशभक्ति नारे। उम्मीद है आपको ये सब याद होंगे। अगर आपको सच मे याद है तो कमेंट में एक नारा लिखें।

और अपने बच्चों को इन नारो और हमारे महान स्वतन्त्रता सेनानियों की बात बताओ। और इस पोस्ट को सोशल मीडिया पर शेयर करो।