Dry Day kyu Manate hai? ड्राई डे क्यों मनाते है? ड्राई डे 2019 महात्मा गाँधी का जीवन परिचय

गाँधी जयंती हर साल 2 अकटुम्बर को मनायी जाता है। 2 अकटुम्बर को महान भारतीय नेता मोहन दास करमचंद गांधी का जन्म दिन मनाया जाता है। उनका देश की आज़ादी में बहुत बड़ा योगदान रहा था। इसी लिए 2 अकटुम्बर को भारतीय छुट्टी का दिन मनाया जाता है। आज हम महात्मा गांधी की जीवनी ( Mahatama Gandhi Ki jeevan in Hindi) लिख रहे है।

Mahatama gandhi ki biography in hindi dry day kyu manate hai

महात्मा गांधी की जीवनी पढ़ने के बाद आपको बहुत सारी बातों का पता चल जाएगा। जैसे कि 2 अकटुम्बर को सरकारी छुट्टी क्यों मनाई जाती है? 2 अकटुम्बर को ड्राई डे क्यों मानते है? महात्मा गाँधी को थे? महात्मा गांधी ने हमारे देश के लिए क्या किया था?

महात्मा गाँधी की जीवनी Mahatma Gandhi Biography in Hindi

Mahatma Gandhi biography in hindi, Mahatma Gandi ka jeevan parichay, Biography of Mahatma Gandhi in hindi, about Mahatma Gandhi in hindi. Dry day kyu manate hai. 2 October ko hi dry day kyu manate hai. Dry day 2020.


महात्मा गांधी कौन थे?, महात्मा गांधी का जीवन परिचय, महात्मा गांधी के माता-पिता, महात्मा गांधी की पत्नी और बच्चे, महात्मा गांधी का जन्म कब और कहाँ हुआ, महात्मा गांधी का जन्मदिवस 2 अकटुम्बर को ड्राई डे क्यों मनाते है 2020. Dry day kyu manate hai. Mahatama gandhi ne kitni pdhai ki hai.

मोहन दास कर्म चंद गांधी के बारे में:-

महात्मा गांधी भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन के एक प्रमुख राजनैतिक एवं आध्यात्मिक नेता थे। वे सत्याग्रह करके भारत मे हो रहे अत्याचारों के खिलाफ प्रमुख नेता था।

महात्मा गांधी का पूरा नाम मोहनदास करमचन्द गान्धी है। गांधी जी का जन्म पश्चिमी भारत में पोरबन्दर नामक स्थान पर हुआ था। इनका जन्म 2 अकटुम्बर 1869 को हुआ था।

गांधी जी के पिता चन्द नाम करम चंद गांधी था। जो कि सनातन धर्म की पंसारी जाति से सम्बंध रखते थे। एवम उनको माता का नाम पुतलीबाई था। जो कि परनामी वश्य समुदाय की थी।

गान्धी जी की माता पुतलीबाई करमचन्द गांधी की चौथी पत्नी थी। भक्ति करने वाली माता की देखरेख और अच्छे सँस्कार से उनमें आत्मशुद्धि के लिये उपवास, शाकाहारी और जीवन मे जोश की भावना आ गयी थी।

मई 1883 को 13 साल की उम्र में उनकी शादी 14 साल की कस्तूरबा माखनजी से कर दिया गया। जब उनकी पत्नी 17 साल की हुई तो उनको एक लड़की हुई जो कुछ दिन बाद मार गयी।

उसी साल गांधी जी के पिता जी भी मर गए। और फिर उनको 4 पुत्र पैदा हुए। 1888 में हरिलाल, 1892 में मणिलाल, 1897 में रामदास और 1900 में देवदास पैदा हुए।

जब वो वकालत की अपनी पहली नौकरी करने दक्षिण अफ्रीका गए तो वहाँ उन्होंने भारतीयों के साथ भेदभाव का सामना किया। और वहाँ 1893 से 1914 तक नागरिक अधिकारों के लिए आंदोलन किया।

इसके बाद भारत मे आके गांधी जी ने सर्वप्रथम बिहार के चम्पारण जिले में 1917 में बिहार के किसानों के लिए चम्पारण आंदोलन किया।

उसके बाद 1920 में कलकत्ता में असहयोग आंदोलन में विदेशी वस्तुओं का बहिष्कार किया। और सरकार से मिली 'केसर-ऐ-हिन्द' की उपादि को वापिस कर दिया।

इसके बाद 12 मार्च 1930 को अंग्रेज सरकार के नमक कानून को तोड़ने के लिए डांडी कूच में सविनय अवज्ञा आंदोलन शुरू किया।

अंग्रेज सरकार से गुलाम भारत देश को आजाद कराने के लिए गांधी जी द्वारा किये गए सभी आंदोलनों को देखते हुए, गांधी को राष्ट्रपिता, महात्मा, बापू, गांधीजी का नाम दिया गया।


उनकी अहिंसा और शाकाहारी की सभी बातों और अटल संकल्प को देखते हए उनके जन्म दिन 2 अकटुम्बर को सरकारी छुट्टी का ऐलान किया गया। और इसी दिन ड्राई डे भी रखा गया।

निष्कर्ष
मोहन दास करम चंद गांधी की जीवनी की ये पोस्ट पढ़कर आप गांधी जी के बारे में बहुत कुछ जान गए होंगे। और हमे उम्मीद है आपको इससे बहुत अच्छी प्ररणा मिली होगी।

अगर आपको ये पोस्ट अच्छी लगी हो तो अपने दोस्तों के साथ सोशल मीडिया पर शेयर जरूर करें।

Post a Comment

0 Comments